Ignore Shayari For Instagram [✂️ Copy and 📋 Paste]

Ignore Shayari For Instagram [✂️ Copy and 📋 Paste]

If You Are Searching For Ignore Shayari For Instagram Then You Should Follow This Post Till The End Because Here You Will Found Many Ignore Shayari For Instagram . You Can Choose The Best Ignore Shayari For Instagram From Here And Copy And Paste It Into Your Instagram post.

Ignore Shayari For Instagram



Best Ignore Shayari For Instagram :

नजर अंदाज जितना करना है कर लो,

अन्दाजा उस दिन का भी कर लो

जब हम नजर नहीं आयेगे.

Nazar andaj jitna karna hai kar lo

andaja us din ka bhi kar lo jab

hum nazar nahi aayenge.



बहुत दर्द होता है जब आपको वो इंसान 

नजरअंदाज करे, जिसके attention के 

लिए आप हमेशा उसका wait करते हो।..

bahut dard hota hai jab apko wo insaan 

nazarandaz kare jiske attention ke liye

aap hamesha uska wait karte ho..



मेरी कोई बात बुरी लग जायें तो नाराज

हो जाना, पर भूलकर भी मुझे नजरअंदाज

मत करना.

Meri koi baat buri lag jaye to naraz ho

jana par bhul kar bhi mujhe nazar

andaz mat karna.




तुम अच्छे लगते थे इसलिए तो भाव दिया था,

वरना इग्नोर करने में तो हमने भी PHD

हासिल कर रखी है।

Tum aache lagte the isliye to bhaw diya

tha varna ignore karne me to humne bhi

PHD hasil kar rakhi hai.



ऑनलाइन होकर भी वो जवाब नहीं देती है,

मेरे मैसेज को पढ़कर भी इग्नोर कर देती है.

Online hokar bhi wo javab nahi deti hai

mere msg ko padkar bhi ignore kar deti hai.



माना आज हमें ये दुनिया इग्नोर करती है,

पर जिस दिन अपनी किस्मत बदलेगी,

उस दिन सबकी जलेगी।

Mana aaj humein ye duniya karti

hai par jis din apni kismat badalegi

us din sabki jalegi.



दाद देते है तुम्हारे, नजर अंदाज करने के

हुनर को, जिसने भी सिखाया, वो उस्ताद

कमाल का होगा.

Dad dete hai tumhare nazar andaz

karne ke hunar ko jisne bhi sikhaya

wo ustad kamal ka hoga.



कौन था अपना जिस पे इनायत करते

हमारी तो हसरत थी, हम भी मोहब्बत करते

उसने समझा ही नहीं मुझे किसी काबिल

वरना उसे प्यार नहीं उसकी इबादत करते..

Kon tha apna jis pe inayat karte

humari to hasrat thi hum bhi mohabbat

karte usne samjha hi nahi mujhe kisi

kabil varna use pyar nhi uski ibadat karte.



जो आपकी खूबियां छोड़ हर दफा आपकी

कमियों पर गौर करें, बेहतर यही होगा की

आप उन्हें Ignore करें।

Jo apki khubiyan chod har dafa apki

kamiyon par gor karen behtar yahi 

hoga ki aap unhe ignore karen..



जिंदगी में इग्नोर करने की सबकी अपनी-अपनी

वजह है, उसे बेवफ़ा समझा जाए,इससे

बेहतर है उसकी मजबूरी को समझा जाए.

Zindagi me ignore karne ki sabki apni

apni wajah hai use bewafa samjha jaye

isse behtar hai uski majburi ko samjha jaye..



कभी किसी ऐसे सख्स को इग्नोर मत करना,

जो आपके लिए पूरी दुनिया को इग्नोर करता हो.

Kabhi kisi ese sakhs ko ignore mat karna

jo apke liye puri duniya ko ignore karta ho.



इग्नोर ही करना चाहते हो तो हम हट जाते

नजर से, एक दिन इन्हीं नज़रों से ढूंढोगे

जब हम नजर नहीं आएंगे.

ignore hi karna chahte ho to hum hat

jaate nazar se ek din inhi nazaron se

dhudoge jab hum nazar nahi aayenge..



नज़र अंदाज़ तुम इस तरह ना करो की

हम टूट कर बिखर जाए और तुझे मेरे

मरने की खबर आये.

Nazar andaz tum is tarha naa karo

ki hum tut kar bikhar jayen aur tujhe

mere marne ki khabar aaye..



ज़िन्दगी जीने का कुछ यूँ अंदाज़ कीजिए,

जिनकी नज़र में खटकते हैं आप ऐसे

लोगों को नज़रअंदाज़ कीजिए।

Zindagi jeene ka kuch andaz kijiye

jinki nazar me khatakte hain aap

ese logon ko nazar andaz kijiye.



वक़्त के साथ नही वक़्त से आगे चलो

क्योंकि ये दुनिया वक़्त से आगे चलने

वालों का साथ देती है.

Waqt ke sath nahi waqt se aage

chalo kyuki ye duniya waqt se aage

chalne walon ka sath deti hai..



तुम क्या समझोगी कितनी सिद्दत से
मैंने मोहब्बत की, नजरअंदाज करके
जिंदगी भर के लिए गम की सजा दी.
Tum kya samjhogi kitni siddat se
mene mohabbat ki nazarandaz karke
zindagi bhar ke liye gam ki saja di..

खुबसूरत लोग हमेशा अच्छे नहीं होते,
लेकिन अच्छे लोग हमेशा खुबसूरत होते है.
khubsuarat log hamesha ache nahi
hote lekin ache log hamesha khubsuarat
hote ha.


ना मोहब्बत हमारी फरेब थीं, ना हम
फ़रेबी थे, तुमने समझने में गलती कर
दीं, वरना हम ही तेरे सबसे करीब थें।
Naa mohabbat humari fareb thi
naa hum farebi the tumne samjhne
me galti kar di varna hum hi tere
sabse karib the..


उन की ना थी गलती हम ही कुछ गलत
समझ बैठे,वो मोहबब्त से बात करते थे
हम मोहबब्त ही समझ बैठे.
un ki naa thi galti hum hi kuch galat
samjh bethe wo mohabbat se baat
karte the hum mohabbat hi samjh bethe.


ये झूठ है के महोब्बत किसी का दिल
तोड़ती है, लोग खुद ही टुट जाते है
महोब्बत करते-करते।
Ye jhuta hai ke mohabbat kisi ka
dil todti hai log khud hi tut jate hai
mohabbat karte karte.


जो कभी डरी ही नहीं मुझे खोने से वो क्या
अफसोस करती होगी मेरे ना होने से.
Jo kabhi dari hi nahi mujhe khonese wo
kya afsos karti hogi mere na hone se.


इश्क की नासमझी में.
हम अपना सबकुछ गँवा बैठे,
उन्हें खिलौने की जरूरत थी
और हम अपना दिल थमा बैठे।
Ishq ki nasamjhi me hum apna
sabkuch ganwa bethe unhe 
khilone ki zarurt thi aur hum 
apna dil thama bethe.


कितना अजीब है लोगों का
अंदाज़-ए-मोहब्बत रोज़ एक
नया ज़ख्म देकर कहते हैं
अपना ख्याल रखना।
Kitna ajib hai logo ka
andaz-e-mohabbat roj ek
naya jakhm dekar kehte
hain apna kahayal rakhna.

Final Word
Let us know in the comments if you already knew about them or if any was a surprise for you. 



Related Posts

Post a Comment